राष्ट्रिय शिक्षानिति 2019 का ड्राफ्ट तैयार .......निर्वाचन जैसे राष्ट्रिय महत्व का कार्य क्या शिक्षकों के बिना सम्पन्न कराया जा सकेगा


रायपुर। राष्ट्रिय शिक्षा निति 2019 का ड्राफ्ट बन कर तैयार हो चुका है ,ड्राफ्ट लिंक के साथ ही इसमें किये गए प्रावधन से संबंधित व्हाट्सएप में एक न्यूज़ तेजी से वायरल हो रहा है ,इसमें 9 बिंदु है इन सभी बिंदुओं में शिक्षकों से संबंधित जो प्रावधान किये गए हैं ,उसी के बारे में बताया गया है। इस वायरल खबर में दिए गए बिंदु की सत्यता की पुष्टि हम नहीं करते ।


इस वायरल न्यूज़ के पहिली बिंदु के अनुसार ग्रामीण क्षेत्र के शिक्षकों को विद्यालय के नजदीक ही आवास उपलब्ध कराया जायेगा,यह प्रावधान कहाँ तक पूर्ण होता है यह देखने वाली बात होगी क्योंकि  RTE कानून  2009  में  शिक्षकों के संबंध में एक बात कही गई थी ,कि अब कोई पैरा शिक्षक नहीं होगा ,पर इस प्रावधान को देश के कई राज्यों ने ठेंगा दिखा दिया था। RTE कानून का यह प्रावधान धरी की धरी रह गई।

नई शिक्षा निति 2019 के अनुसार शिक्षकों को 5 -7 वर्ष एक ही स्थान पर कार्य करना होगा। 
प्रोन्नति कार्य की गुणवत्ता के आधार पर होगा। 
शिक्षकों से MDM व निर्वाचन संबंधी गैर शिक्षकीय कार्य नहीं लिया जाएगा। 
2022 तक सभी नियमित शिक्षक रहेंगे। 
भर्ती प्रक्रिया में स्थानीय अभ्यर्थियों को (जिला वरीयता लागू)  प्राथमिकता दिया जाएगा।
वेतन निर्धारण ,प्रमोशन आपके शिक्षण कार्य की गुणवत्ता के आधार पर तय होगा, इत्यादि ....

उपरोक्त प्रावधानों को ध्यान से देखा जाय तो इसमें से अधिकांश प्रावधान इससे पहले लागू किये गए शिक्षा निति में शामिल किया जा चुका है पर अभी तक इन प्रावधानों को पूरा नहीं किया जा सका है ,ऐसे में देखने वाली बात यह होगी कि राष्ट्रिय शिक्षानीति 2019 में किये गए प्रावधान कहाँ तक पूरा हो पाता  हैं, यह तो आने वाले समय में ही पता चल पायेगा ?


शिक्षक एलबी व्हाट्सएप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें 



Post a comment

0 Comments