sla app बना शिक्षकों के लिए सर दर्द .......देखिए पूरी खबर विस्तार से


state level assessment app शिक्षकों के लिए सर दर्द बन चूका है क्योंकि app अपडेशन के बाद भी सर्वर की समस्या यथावत बना ही हुआ है जिससे विद्यार्थियों की डाटा ऑनलाइन अपलोड करने में बहुत परेशानी हो रही है।
  दरअसल राज्य कार्यालय द्वारा प्रदेश के सभी प्राथमिक और उच्च प्राथमिक शालाओं के वार्षिक परीक्षा प्रणाली में बदलाव करते हुए राज्य स्तर से प्रश्न पत्रों की छपाई करके वितरित किया गया था जिसके के आधार पर पूरे प्रदेश में एक साथ परीक्षा का कार्य संचालित किया गया। इस परीक्षा को बेसलाइन का नाम दिया गया है। राज्य कार्यालय से जारी आदेश के अनुसार इस बेसलाइन आकलन के आधार पर आगामी सत्र के लिए विद्यार्थी लर्निंग आउटकम का निर्धारण किया जाना है।  


पूरे प्रदेश में दिनांक-04.04.19 से 16.04.19 तक परीक्षा का कार्य सम्पादित किया गया। राज्य शासन के आदेशानुसार  sla परीक्षा  के लिए बोर्ड परीक्षा स्तर की तैयारी किया गया था।इसके लिए सभी प्राथमिक और उच्च प्राथमिक शालाओं को परीक्षा केंद्र बनाया गया था तथा परीक्षा केंद्र प्रभारी के रूप में अन्य शाला के शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गई थी। 

परीक्षा के पश्चात संकुल स्तर पर मूल्यांकन केंद्र बनाकर प्रश्न पत्रों के मूल्यांकन का कार्य भी युद्ध स्तर पर सम्पन्न किया गया परन्तु विद्यार्थियों के  विषयवार प्राप्तांकों को  app के माध्यम से एंट्री करना शिक्षकों के लिए टेढ़ी खीर साबित हो रहा है क्योंकि साइट में अधिक ट्रैफिक होने से सर्वर स्लो हो गया है और डाटा अपलोड नहीं हो रहा है। डाटा अपलोड नहीं होने एंट्री का कार्य भी रुक गया है।डाटा सिंक नहीं होने से शिक्षक भी मानसिक रूप से परेशान हो रहे हैं।राज्य कार्यालय द्वारा सर्वर संबंधी समस्या को शीघ्र ही दूर करने की बातें कही जा रही है परन्तु अब भी समस्या ज्यों का त्यों बना ही हुआ है।      

Post a comment

0 Comments