वेतन मिलता था 70 हजार रूपये प्रतिमाह ,रिटायरमेंट में क्या मिला ?.....700 रुपये पेंशन ...... nps आपके साथ भी ऐसा तो नहीं करने वाला है


बिलासपुर 08.08.2020 छत्तीसगढ़ के सभी जिलों में आज अगस्त क्रांति का आगाज होने जा रहा है ,प्राप्त जानकारी के अनुसार आज प्रदेश के पेंशन विहीन अधिकारी /कर्मचारी प्रदेश के मुखिया को ट्विटर के माध्यम से ट्वीट कर पुरानी पेंशन की मांग करेंगे। 


जैसा कि आज सभी को विदित है,2004 के बाद वाली नियुक्ति में पुरानी पेंशन खत्म दिया गया है ,शासकीय सेवकों के लिए 60 -62 वर्ष के उम्र तक सेवा देने के बाद आगे की जीवन जीने के लिए पेंशन ही मात्र सहारा होता है। 

पुरानी पेंशन खत्म हो जाने से अधिकारी /कर्मचारियों को अपने भविष्य की चिंता सताने लगा हैं क्योंकि नई पेंशन स्किम मार्किट आधारित स्किम है ,रिटायर होने पर आपको कितनी राशि मिलनी चाहिए इसमें तय नहीं किया जा सकता। 

आज हम आपको नई पेंशन सिस्टम की एक रिपोर्ट बताने जा रहे हैं ,जिसे पढ़कर आपको भी नई पेंशन स्किम का अंदाजा हो जायेगा कि आपके साथ भी कहीं ऐसा तो नहीं होने वाला है।  

रिपोर्ट -

वेतन 70 हजार रूपये प्रति माह पर अब रिटायरमेंट के बाद पेंशन मिलेगा ,700 रुपया प्रति माह। यह कमाल है NPS पेंशन सिस्टम का। 


सरकार द्वारा जैसे ही 2004 में पुरानी पेंशन व्यवस्था को समाप्त कर कर्मचारियों /अधिकारीयों के लिए नई पेंशन व्यवस्था लागू किया गया है ,तभी से पुरानी पेंशन व्यवस्था को लागू करने की मांग शासकीय सेवकों द्वारा किया जाता रहा है ,क्योंकि नई पेंशन व्यवस्था बाजार आधारित है, जी हाँ हम बात कर रहे हैं nps की।इस योजना से मिलने वाली पेंशन बाजार पर आधारित है।  



हाल ही में पडनौरा से एक समाचार प्रकाशित हुआ था जिसके मुताबिक़ एक शिक्षक सेवानिवृत हुआ जिसका वेतन 70 हजार रूपये मासिक था ,और उसके वेतन से परइ माह NPS के तहत राशि कटौती कर लिया जाता था,जब वह सेवानिवृत हुआ तब नई पेंशन व्यवस्था के अंतर्गत उसके अब 700 रूपये प्रति माह पेंशन मिलेगा। 

इस संबंध में प्राप्त जानकारी के अनुसार श्री जयराम गुप्त उदित नारायण इंका पडरौना में 2006 में आयोग द्वारा चयनित होकर सेवा शुरू की थी।  31 मार्च 19 को सेवानिवृत होने पर NPS के अंतर्गत उसे 700 रूपये पेंशन दिया जाएगा।पुरानी पेंशन योजना लागू होने पर 35 हजार रूपये पेंशन प्राप्त होता।  

यह एक प्रकार का अनोखा मामला है तथा सभी शासकीय सेवकों को सतर्क रहने के साथ -साथ इस दिशा में सोंचने की भी आवश्यकता है। कहीं ऐसा तो नहीं ,आपके साथ भी यह घटना घटने वाली है ,क्योंकि NPS बाजार आधारित योजना है।


छत्तीसगढ़ में पुरानी पेंशन योजना की बहाली हेतु प्रयास शुरू हो गया है, इसी तारतम्य में छत्तीसगढ़ अंशदायी पेंशन कर्मचारी कल्याण संघ ,बिलासपुर इकाई की बैठक आयोजित किया गया। इस बैठक में कार्यकारणी के विस्तार के साथ-साथ विभिन्न विषयों पर विस्तृत चर्चा किया गया। बैठक में पुरानी पेंशन के लाभ और नई पेंशन के हानि को बताया गया।

शिक्षक lb न्यूज़ व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें 

Post a comment

0 Comments