16 जून से शिक्षकों को शाला में उपस्थित होने जिला शिक्षा अधिकारी ने जारी किया आदेश.......जिला शिक्षा अधिकारी को देना होगा जवाब


रायपुर- शासन के आदेश का अवहेलना करना जिला शिक्षा अधिकारी को पड़ा महंगा ,संयुक्त संचालक लोक शिक्षण संभाग कार्यालय से जारी हुआ कारण बताओ नोटिस। तीन दिन दिवस के भीतर जवाब प्रस्तुत करना होगा अन्यथा होगी एक तरफा कार्यवाही। प्रदेश में इस तरह का दूसरा मामला।


वैश्विक महामारी के रोकथाम को लेकर शासन कितना संजीदा है ,इस बात का अंदाजा संयुक्त संचालक लोक शिक्षण संभाग कार्यालय से जारी कारण बताओ नोटिस के आधार पर लगाया जा सकता है। मामला सुकमा जिला का है ,जहाँ जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा 16 जून 2020 से शिक्षकों उपस्थित होने तथा प्रवेश प्रक्रिया प्रारम्भ करने का निर्देश जारी किया गया है। 

क्या है शासन का निर्देश -

छत्तीसगढ़ शासन लोक शिक्षण संचालनालय के पत्र क्रमांक एफ 22-06 /2020 /20-एक दिनांक 19.03.2020 को जारी आदेश में स्कूल शिक्षा विभाग के अंतर्गत समस्त शिक्षण संस्थाओं तथा समस्त प्रशिक्षणों को आगामी आदेश पर्यन्त बंद करने के निर्देश जारी किये गए हैं। 

जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा आदेश में क्या कहा गया है -

जिला शिक्षा अधिकारी सुकमा द्वारा दिनांक 12.06.2020 को 16 जून 2020 से नवीन शिक्षा सत्र 2020-21 प्रारम्भ होने तथा दिनांक 16.06.2020 से प्रवेश प्रक्रिया प्रारम्भ करने का उल्लेख करते हुए समस्त शिक्षकों को उपस्थित होने का निर्देश जारी किया था। 

कारण बताओ नोटिस क्यों जारी हुआ -

छत्तीसगढ़ शासन लोक शिक्षण संचालनालय के पत्र क्रमांक एफ 22-06 /2020 /20-एक दिनांक 19.03.2020 को जारी आदेश के अनुसार आगामी आदेश तक समस्त शैक्षणिक संस्थाओं तथा प्रशिक्षणों को बंद करने के निर्देश दिए गए हैं ,जबकि जिला शिक्षा अधिकारी सुकमा द्वारा इस आदेश का अवहेलना करते हुए 16 जून से शिक्षकों को उपस्थित होने का निर्देश जारी किया गया है। 

16 जून से शाला संचालन पर रोक क्यों -

कारण वैसे तो आप सभी को विदित है ,प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या दिनोदिन बढ़ता ही जा रहा है। शासन  संक्रमण के रोकथाम के मद्दे नजर पर्याप्त सावधानी बरत रही है। हाल ही में दुर्ग के ट्यूशन क्लास शिक्षिका के कोरोना पॉजिटिव की खबर ने शासन -प्रशासन का हाथ -पांव फुला दिया था ,ऐसे में शिक्षकों ,पालकों तथा बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर शासन कोई रिस्क लेना नहीं चाहती। 

खुदा न खास्ता किसी संस्था में कोई संक्रमित हो गए तो पूरा गॉव इसके चपेट में आ सकता है ,इस लिए शासन प्रयाप्त सावधानी बरत रही है। 

क्या कहा गया कारण बताओ नोटिस में -

संयुक्त संचालक लोक शिक्षण संभाग कार्यालय बस्तर द्वारा जिला शिक्षा अधिकारी सुकमा को जारी कारण बताओ नोटिस में कहा गया है कि छत्तीसगढ़ शासन लोक शिक्षण संचालनालय नया रायपुर के पत्र क्रमांक एफ 22-06 /2020 /20-एक दिनांक 19.03.2020 द्वारा शैक्षणिक संस्थाओं तथा प्रशिक्षणों पर आगामी आदेश तक रोक लगा दिया गया है। 

आपने शासन के इस निर्देश का अवहेलना करते हुए 16 जून 2020 से प्रवेश प्रक्रिया प्रारम्भ करने तथा शिक्षकों को उपस्थित होने का निर्देश जारी किया है। इस वैश्विक महामारी में शासन के आदेश के विपरीत शिक्षकों को उपस्थित होने के लिए बाध्य किया है। 

कारण बताओं नोटिस कहा गया है कि इस प्रकार के आचरण ,कृत्य व अनुशासनहीनता के लिए क्यों न आपके विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही प्रस्तावित की जावे। 

तीन दिवस के भीतर प्रस्तुत करना होगा स्पष्टीकरण -

जिला शिक्षा अधिकारी सुकमा को तीन दिवस के भीतर संयुक्त संचालक लोक शिक्षण संभाग कार्यालय बस्तर में स्पष्टीकरण प्रस्तुत करना होगा अन्यथा एकतरफा कार्यवाही की बात कही गई है। 



Post a comment

0 Comments