शाला में शिक्षकों की उपस्थिति के संबंध में जारी हुआ निर्देश,,,,,,,,सुबह 11 बजे से 3 बजे तक गतवर्ष की भांति नियमित खुलेगा विद्यालय


वैश्विक महामारी कोरोना के कारण बंद स्कूलों के पट अब खुलेंगे। प्रमुख सचिव के वीडियो कांफ्रेंस में दिए गए दिशा -निर्देश के आधार पर जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा जिले के अंतर्गत आने वाले सर्व विकास खंड शिक्षा अधिकारी ,सर्व प्राचार्य ,शासकीय हाई /हायर सेकेंडरी को शाला में शिक्षकों की उपस्थिति के संबंध में पत्र जारी किया गया है।

दिनांक 26.08.2020 को जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय मुंगेली से जारी निर्देश के अनुसार गतवर्ष की भांति अब शिक्षकों को शाला में नियमित उपस्थिति देना होगा ,लेकिन बच्चों की उपस्थिति पर रोक अब भी जारी रहेगा। इस दौरान ऑनलाइन तथा ऑफलाइन क्लास पूर्व की भांति नियमित संचालित होता रहेगा। 
शाला में शिक्षकों की नियमित उपस्थिति-
प्रमुख सचिव, शिक्षा विभाग द्वारा दिनांक 24 .08.2020 वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से सर्व जिला  शिक्षा अधिकारी छत्तीसगढ़ को कोरोना काल के दौरान स्कूलों के संचालन के संबंध में आवश्यक दिशा -निर्देश दिया  गया था। जिला शिक्षा अधिकारी मुंगेली द्वारा उक्त दिशा-निर्देश के आधार सर्व विकास खंड शिक्षा अधिकारी ,सर्व प्राचार्य ,शासकीय हाई /हायर सेकेंडरी को शाला ,जिला -मुंगेली को पत्र जारी कर शालाओं में शिक्षकों की नियमित उपस्थिति सुनिश्चित करने को कहा गया है। 
शाला संचालन का समय -


जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय मुंगेली से जारी आदेश के अनुसार शिक्षकों को प्रतिदिन कोविड -19 नार्म्स का पालन करते हुए सुबह 11 बजे से 3 बजे तक नियमित उपस्थिति देना होगा ,परन्तु विद्यार्थियों की उपस्थिति पर अब भी प्रतिबंध जारी रहेगा। 

हाई /हायर सेकेंडरी में प्रवेश हेतु विद्यार्थी शाला आ सकेंगे -
जारी निर्देश के अनुसार कोविड -19 नार्म्स का पालन करते हुए हाई एवं हायर सेकेंडरी में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थी शाला में उपस्थित हो सकते हैं ,अन्य विद्यार्थियों /बच्चों को किसी भी परिस्थिति में शाला नहीं बुलाना है। 
ऑफलाइन तथा ऑनलाइन क्लास लेने वाले शिक्षकों मिलेगा सर्टिफिकेट  -


शिक्षा सचिव के वीडियो कांफ्रेंस दिए गए निर्देश अनुसार ऑफलाइन एवम् ऑनलाईन के माध्यम से अधिक से अधिक क्लास लेने वाले शिक्षकों को सर्टिफिकेट दिया जाना है । ऐसे शिक्षकों की पहचान विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी अपने ब्लॉक के संकुल समन्वयकों के माध्यम से करेंगे तथा प् सूची जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में उपलब्ध करायेंगे।  
 ऑफलाइन तथा ऑनलाइन क्लास की होगी नियमित मॉनिटरिंग -
शिक्षा सचिव के वीडियो कांफ्रेंस दिए गए निर्देश अनुसार लाउड स्पीकर, मोबाईल क्लास, मोहल्ला क्लास, मिस्ड कॉल गुरुजी , बुल्टू के बोल , वालेंटियर द्वारा क्लास,मोटर साइकिल वाला गुरुजी जैसे ऑफलाइन क्लास और अन्य कोई वैकल्पिक कक्षा की व्यवस्था का नियमित मॉनिटरिंग सभी बी. ई. ओ./बी. आर सी./ए.बी. ई.ओ. /एवम् संकुल स्रोत समन्वयकों के द्वारा प्रतिदिन किया जाना है।  
ऑफलाइन एवम् ऑनलाईन हेतु मोटिवेशन -
प्रमुख सचिव, शिक्षा के अधिक से अधिक शिक्षकों को ऑफलाइन एवम् ऑनलाईन कक्षाएं शुरू करने मोटिवेट किया जाना है ,शिक्षकों के सहयोग हेतु स्थानीय जनप्रतिनिधि ,गणमान्य नागरिक, उच्च शिक्षित व्यक्ति एवम् पालकों से संपर्क कर उनका समर्थन प्राप्त करना है। गांव / शहर के पढ़े लिखे युवा पीढ़ी को बच्चों के छोटे - छोटे समूह को पढ़ाने के लिए प्रेरित किया जाना है।
स्थानीय कौशल आधारित शिक्षा पर जोर -


प्रमुख सचिव ,शिक्षा द्वारा दिनांक 24 .08.2020 वीडियो कांफ्रेंस में दिए गए निर्देश के अनुसार पढ़ाई के साथ -साथ अन्य सह-गामी गतिविधियों को शामिल किया जाना है। इसके लिए ऐसे स्थानीय लोग जिन्हें कहानी, लोककथाएं,लोकगीत ,खिलौना बनाना , स्थानीय खेल, ड्राइंग ,पेंटिंग आदि कार्य आता हो उनका सहयोग लिया जाना है।
बोर्ड क्लास की पढ़ाई पर जोर -

कक्षा 10 वीं एवम् 12 वीं की कक्षाएं समय सारणी तय कर यूनिट वाइज अध्यापन , विद्यार्थियों का मासिक टेस्ट आदि पर विशेष जोर दिया गया है, चूंकि आंतरिक मूल्यांकन में अर्जित अंकों का कुछ प्रतिशत वार्षिक परीक्षा के प्राप्तांको से जोड़कर परिणाम निकाला जाता है ।    

Post a comment

0 Comments