हाई स्कूल/हायर सेकेंडरी प्रायोगिक परीक्षा / प्रायोजना कार्य 2021 के सम्बन्ध में जारी हुआ विस्तृत निर्देश.......

दिनांक 25.01.2021 को  shikshaklbnews.com द्वारा एक न्यूज़ प्रकाशित किया गया था ,जिसमे बताया गया था कि हाई स्कूल/हायर सेकेंडरी प्रायोगिक परीक्षा / प्रायोजना कार्य 2021 के लिए फरवरी में शाला खुल सकता है।  आज दिनांक 30.01.2021 को माध्यमिक शिक्षा मंडल रायपुर द्वारा प्रायोगिक परीक्षा /प्रयोजना कार्य 2021 के लिए विस्तृत निर्देश जारी कर दिया है |


इससे यह बात पूरी तरह स्पष्ट हो गया है कि हाई स्कूल / हायर सेकेंडरी स्कूल मुख्य परीक्षा में शामिल होने वाले नियमित छात्रों के प्रायोगिक परीक्षा / प्रायोजना कार्य के लिए 10 फरवरी से 10 मार्च 2021 के बीच शाला खुलेंगे | वर्तमान में कोविड-19 के कारण प्रदेश के सभी शासकीय /अर्द्ध शासकीय / निजी विद्यालय बंद हैं , अभी स्थिति सामान्य नही हुआ है ,इस लिए नियमित शाला खुलने को लेकर अनिश्चितता है | 

कोविड 19 संक्रमण के रोकथाम के मद्दे नजर शाला संचालन नियत समय पर शुरू नहीं हो पाने के कारण शासन द्वारा मुख्य विषयों के पाठ्यक्रम में 30 % से 40 % तक कटौती किया गया है ,परन्तु अभी भी शाला खुलने में अनिश्चितता बनी हुई है। माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आयोजित ऑनलाइन क्लास , शिक्षकों द्वारा लिए जा रहे ऑनलाइन / ऑफलाइन क्लास के माध्यम से कोर्स को पूरा किया जा रहा है। 

शिक्षा सत्र 2020-2021 के प्रायोगिक परीक्षा लिए जाने के संबंध में विभाग पहले ही पूरी तैयारी कर चूका था ,  इस लिए आज प्रायोगिक परीक्षा सम्पन्न कराने को लेकर विस्तृत निर्देश जारी किया गया है। 

परीक्षा तिथि तथा परीक्षक -

हाई स्कूल/हायर सेकेंडरी का प्रायोगिक परीक्षा / प्रायोजना कार्य 2021 को सम्पन्न कराने के लिए माध्यमिक शिक्षा मंडल रायपुर द्वारा 10 फरवरी 2021 से लेकर 10 मार्च 2021 तक का समय दिया गया है ,उक्त निर्धारित तिथि के बीच सभी शालाओं को प्रायोगिक परीक्षा /प्रायोजना कार्य सम्पन्न कराना होगा, वहीं प्रायोगिक परीक्षा के लिए नियुक्त किये जाने वाले बाह्य परीक्षक की आवश्यकता को समाप्त कर दिया गया है। 

इस वर्ष संबंधित शाला के विषय शिक्षक ही आंतरिक परीक्षक के रूप में / प्रायोजना कार्य सम्पन्न करेंगे | प्रायोगिक परीक्षा /प्रायोजना कार्य का आंतरिक मूल्याङ्कन शाला स्तर पर ही किया जाना है।  

विद्यार्थियों को बैच में बुलाना होगा  -

प्रायोगिक परीक्षा /प्रायोजना कार्य के लिए  विद्यार्थियों को बैच में बाँटना होगा तथा सुविधानुसार एक दिन तीन बैच को बुलाकर प्रायोगिक परीक्षा / प्रायोजना कार्य सम्पन्न कराना होगा , यदि अधिक बैच बनता है तब  अधिक दिन में प्रायोगिक परीक्षा लिया जा सकता है। 

बैच में प्रायोगिक परीक्षा लिए जाने को इस लिए कहा गया है कि शाला में अधिक भीड़ इकट्ठा न हो ,क्योंकि प्रायोगिक परीक्षा लेते समय कोविड -19 निर्देश सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा। इस प्रकार एक दिन में तीन बैच का प्रायोगिक परीक्षा /प्रायोजना कार्य सम्पन्न करा सकते हैं ,अधिक बैच होने पर एक से अधिक दिनों में भी प्रायोगिक परीक्षा /प्रायोजना कार्य सम्पन्न कराया जा सकता है। 

प्राप्तांकों की ऑनलाइन प्रविष्टि -

प्रायोगिक परीक्षा /प्रायोजना कार्य सम्पन्न होने के बाद दिनांक 20 .03.2021 तक मंडल के पोर्टल पर प्राप्तांकों का प्रविष्टि करना होगा ,प्रविष्टि का आंतरिक परीक्षक से मिलान कर हस्ताक्षरित  कराने के बाद ही पोर्टल को लॉक करना होगा ,पोर्टल लॉक होने के बाद संशोधन सम्भव नहीं होगा ,इस लिए मिलान करने के बाद पूरी तरह आश्वस्त होने पर ही पोर्टल को लॉक करें। 

प्राप्तांकों को सुरक्षित रखने के निर्देश -

इसके अतिरिक्त लॉक करने के पूर्व दो प्रतियां निकाल कर  प्राप्तांकों को आंतरिक परीक्षक /संस्था प्रमुख के हस्ताक्षर कराकर लिफाफे में परिणाम घोषित होने के 6 माह बाद तक सुरक्षित रखना होगा। 

उत्तर पुस्तिका का व्यवस्था तथा सुरक्षा -

प्रायोगिक परीक्षा /प्रायोजना कार्य के लिए पूर्व वर्ष के बचे हुए उत्तर पुस्तिकाओं का उपयोग करना होगा।,कमी होने की स्थिति में स्थानीय स्तर पर उत्तर पुस्तिका का व्यवस्था करना होगा। 

परीक्षा में उपरांत हाई स्कूल के उत्तर पुस्तिका को सफेद कपड़ा तथा हायर सेकेंडरी के उत्तर पुस्तिकाओं को पीले कपड़े के थैली में लपेट कर बंडल बनाना होगा तथा शीलकर बाएं कोने में परीक्षा का नाम ,विषय का नाम तथा प्रायोगिक परीक्षा 2021 लिखकर शाला का परीक्षा परिणाम घोषित  के 6 माह बाद तक सुरक्षित रखना होगा।   

प्रायोगिक परीक्षा  मानदेय -

प्रायोगिक परीक्षा हेतु मंडल द्वारा प्रति विद्यार्थी हाई स्कूल के लिए 3/- तथा हायर सेकेंडरी के लिए प्रति विद्यार्थी 4 /- के दर से आंतरिक परीक्षक हेतु (मानदेय सहित ) राशि जारी कर दिया गया है ,इससे स्पष्ट है कि पूर्व वर्ष की भांति ही इस वर्ष भी प्रायोगिक परीक्षा सम्पन्न होना है , जिसमे बाह्य परीक्षक की तरह आंतरिक परीक्षक को मानदेय दिया जाना है। 

प्रायोगिक परीक्षा /प्रायोजना कार्य के व्यय का हिसाब मय प्रमाणित व्हाउचर वित्ताधिकारी माध्यमिक शिक्षा मंडल रायपुर को रजिस्टर्ड डाक द्वारा पृथक से भेजना होगा। 


पर्यावरण प्रोजेक्ट कार्य -

कक्षा 12 वीं के पर्यावरण पाठ्यक्रम के अंतर्गत दो प्रोजेक्ट कार्य कराना होगा तथा विद्यार्थियों के प्राप्तांकों को 20/03/2021 तक मंडल के पोर्टल पर प्रविष्ट करना होगा। परीक्षा शाला स्तर पर 50 अंकों का मंडल द्वारा निर्धारित योजना अनुसार सम्पन्न कराने का निर्देश जारी किया गया है।  

Post a comment

0 Comments