सैनिक स्कूल के चार स्टॉफ कोरोना संक्रमित मिले.........

प्रदेश में स्कूल खुलने के बाद मानों कोरोना को एक नया रास्ता मिल गया है ,अभी तक प्रदेश में कोरोना के नये मामलों में लगातार कमी देखने को मिल रही है | हालात में निरंतर सुधार होते जा रहा है ,परन्तु शाला खुलते ही प्रदेश के विभिन्न जिलों से आ रही खबरों ने पालकों को एक बार फिर से सोचने को मजबूर कर दिया है |

शाला खुलने के बाद से लगातार किसी न किसी जिले से विद्यार्थियों या शिक्षकों का कोरोना संक्रमित होने की खबरें लगाकर मिल रही है ,राजनंदगाँव ,सूरजपुर जिले के बाद अब सरगुजा जिले से शिक्षकों के कोरोना संक्रमित होने की जानकारी मिली है |

प्राप्त जानकारी के अनुसार सरगुजा जिले के मेंड्राकला सैनिक स्कूल के चार अधिकारी -कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं ,इससे सैनिक स्कूल में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 12 पहुँच गई है। एक दिन पहले ही यहां 8 स्टाफ कोरोना संक्रमित मिले थे। 

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार सभी कोरोना संक्रमितों का हालात सामान्य है। सभी का  इलाज चल रहा है। इसके  अतिरिक्त जिले में अभी भी कोरोना के अन्य मामले सामने आ रहे हैं , जिनका जाँच रिपोर्ट के आधार पर इलाज चल रहा है। 

शिक्षामंत्री ने प्रदेश के विभिन्न जिलों से बच्चों और स्टाफ के कोरोना संक्रमित होने की सवालों के जवाब में कहा है कि एक माह बाद फिर से स्कूल बंद हो जायेगा ,जो पालक अपने बच्चों को शाला भेजना चाहते हैं ,वो भेजें और जो नहीं भेजना चाहते वो न भेजें ,परन्तु हाजिरी हर हल में दर्ज होगी।

उन्होंने  कहा कि कोविड 19 निर्देशों के अनुरूप शाला खोला जा रहा है।  मास्क ,सेनेटाइजर तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन शाला के लिए अनिवार्य कर दिया गया है। 

वहीं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि स्कूलों में कोरोना के मामले मिलने की खबरे मिल रही है ,यदि जरूरत पड़ी तो शाला  होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा है कि प्रैक्टिकल क्लास और बच्चों केभविष्य को देखते हुए कक्षा 9 से 12 तक के कक्षाओं को खोलने का निर्णय लिया गया है , यदि किसी स्कूल में कोरोना के केस पाए जाते हैं तो ऐसे  स्कूलों को निश्चित बंद कराएंगे। 

वहीँ पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना पूरी तरिके से खत्म नहीं हुआ है और ऐसे सरकार द्वारा स्कूल खोलने जल्दबाजी की जा रही है।  शाला खुलते ही विभिन्न जिलों से बच्चों और शिक्षकों का कोरोना संक्रमित होने की खबरें मिल रही है।  सरकार को फील शाला बंद कर देनी चाहिए। 

DPI का निर्देश सर्दी ,खासी ,बुखार के लक्षण वाले  विद्यार्थियों को शाला आने का अनुमति न दिया जाय। दिनांक 19/02/2021 को लोक शिक्षण संचालनालय छत्तीसगढ़ द्वारा समस्त कलेक्टर , समस्त जिला शिक्षा अधिकारी छत्तीसगढ़ को जारी पत्र में कहा गया है ,शासन द्वारा कक्षा 9 से 12 तक के कक्षाओं को खोलने का निर्णय लिया गया है ,जिसके तहत सभी शासकीय ,अशासकीय स्कूलों को कोरोना गाइड लाइन का पालन करने का निर्देश दिया गया है। 

स्कूलों को यह भी नर्देश जारी किया गया है कि स्कूलों का सेनेटाइज करा लिया जावे तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कड़ाई से किया जावे तथा ऐसे छात्र -शिक्षक जिन्हे सर्दी,खासी ,बुखार जैसे लक्षण हैं ,उन्हें स्कूलों में प्रवेश न दिया जावे। 

DPI द्वारा जारी आदेश में यह भी कहा गया है कि प्रदेश में कुछ छात्रों तथा शिक्षकों का कोरोना पीड़ित होने की जानकारी प्राप्त हुई है  ,ऐसे शिक्षक -छात्र परिवार जहाँ कोरोना पीड़ित पाए जाते हैं , उन्हें कोरोना के अनुसार कन्टेंटमेंट जोन शोषित करते हुए उपचार आदि उपलब्ध करना सुनिश्चित किया जावे। 

join our whatsapp groups -


Post a comment

0 Comments