स्कूलों में किचन गार्डन के लिए गौठान का खाद खरीदने DEO का आदेश .........कई स्कूलों में किचन गार्डन ही नही

विश्वव्यापी कोरोना महामारी के कारण पिछले 11 -12 माह से स्कूलों का संचालन सम्भव नहीं  हो पाया है | प्रदेश में इस सत्र भी प्राथमिक और पूर्व माध्यमिकस्कूल स्तर के बच्चों को शासन द्वारा जनरल प्रमोशन देने का आदेश जारी कर दिया गया है | शिक्षक गली-मुहल्लों में जाकर बच्चों को पढ़ा रहे हैं | शाला में विद्यार्थियों के आने पर प्रतिबन्ध है ,ऐसे में जिला शिक्षा अधिकारी का आदेश सुर्ख़ियों में बना हुआ है |


मामला कोरबा जिले का है ,जहाँ जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा संकुल समन्वयकों को व्हाट्सएप के माध्यम से आदेश जारी किया गया है कि सरकारी स्कूलों में किचन गार्डन के लिए 50-50 किलो वर्मी कम्पोस्ट खाद गौठानों से खरीदा जाए | जिला शिक्षा अधिकारी सतीश कुमार पाण्डेय ने संकुल समन्वयकों को वर्मी कम्पोस्ट खाद के लिए 5 -5 रूपये जमा करने कहा है |

शिक्षा विभाग जिला कोरबा के व्हाट्सएप ग्रुप में भेजे गये आदेश में कहा गया है कि कलेक्टर सर का आदेश है इसका पालन तत्काल हो | मजे की बता यह है कि अधिकांश स्कूलों में किचन गार्डन है ही नही | यदि किचन गार्डन है भी तो शाला नही खुलने के कारण उसमे कुछ भी उगाया नही जा सका है |

जिला शिक्षा अधिकारी ने यह भी कहा है कि प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक शालाओं में 50-50 किलो ग्राम वर्मी कम्पोस्ट खाद लिया जाना है जिसकी कीमत प्रति किलो 10 रूपये है ,इस प्रकार 50 किलो ग्राम खाद के लिए स्कूलों को 500 रूपये भुगतान करना होगा | भुगतान चेक या एनईएफटी के माध्यम से किया जाये |

अभी कोरबा जिले के सभी विकास खंडों में 700 स्कूलों में 3 लाख 5 हजार 5 सौ रूपये का खाद खरीदने के निर्देश दिए गये हैं | बिल उप संचालक कृषि या गोठान के से मिलेगा | साथ ही राशि जमा करने का स्क्रीनशॉट भी भेजने को कहा गया है | संकुल समन्वयकों को इसकी जिम्मेदारी दी गई  इसके अतिरिक्त जिले के सभी विकास खंड शिक्षा अधिकारीयों को भी जिम्मेदारी दी गई है उनके अंतर्गत आने वाले संकुल के स्कूलों में कितना वर्मी कम्पोस्ट खाद लगेगा |

हो सकती है एक नई पहल -

यदि इस आदेश को सकारात्मक नजरिये से देखा जाय तो यह एक नई पहल हो सकती है ,क्योंकि यदि वर्मी खाद खरीद कर जून-जुलाई में स्कूलों में किचन गार्डन में उगाये जाने वाले सब्जियों में डाला जाता है ,तो इससे सब्जियों में रसायनिक खाद जो शारीर के लिए हानि कारक होता है से छुटकारा मिलेगा और आम लोगों में भी वर्मी कम्पोस्ट खाद को लेकर एक नई संदेश जाएगा |

जिला शिक्षा अधिकारी -

स्कूलों को खाद खरीदने के लिए दबाव नही है ,जिन्हें जरूरत है वे ले रहे हैं | 15 अप्रैल से स्कुल खुल जायेंगे स्कूल नये सत्र की तैयारी करेंगे | वर्मी कम्पोस्ट खाद साधारण खाद से ज्यादा अच्छी है ,इस लिए गोठानो से खाद खरीदने को कहा गया है , इससे किचन गार्डन को और बेहतर बनाया जा सकेगा | 

Post a comment

0 Comments