कोरोना के कारण बच्चों के लिए शाला बन्द लेकिन शिक्षकों की उपस्थित अनिवार्य

प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामले के कारण कल दिनाँक 21.03 .2021 को हुए कैबिनेट की बैठक में स्कूल ,कालेज तथा आंगनबाड़ी केंद्रों को बंद करने का निर्णय लिया गया है। आज से स्कूल ,कालेज, आंगनबाड़ी तथा अन्य सभी प्रकार के शैक्षणिक संस्था आगामी आदेश तक बंद रहेंगे ।


लोक शिक्षण संचालानायल ,छत्तीसगढ़ ,इन्द्रावती भवन ,अटल नगर नवा रायपुर द्वारा दिनांक 22.03.2021 को समस्त जिला शिक्षा अधिकारी छत्तीसगढ़ को जारी आदेश के अनुसार आगामी आदेश पर्यन्त स्कूल बंद रहेंगे | इसके अतिरिक्त कक्षा 10 और 12 की बोर्ड परीक्षाएं जो माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा पूर्व में घोषित कार्यक्रम है उसकी के अनुसार ऑफलाइन मोड में होगी |

बोर्ड कक्षाओं को छोड़कर शेष सभी कक्षाओं में जनरल प्रमोशन दिए जाने का आदेश है , इस प्रकार कक्षा 1 से 9 और 11 के बच्चों को जनरल प्रमोशन दिया जाना है |

बच्चों के लिए स्कूल बंद शिक्षकों के लिए अनिवार्य -

लोक शिक्षण संचालानायल ,छत्तीसगढ़ ,इन्द्रावती भवन ,अटल नगर नवा रायपुर द्वारा जारी आदेश में स्पष्ट कर दिया गया है कि कोरोना के संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए आगामी आदेश तक राज्य के सभी शासकीय एवं अशासकीय स्कूल बंद रहेंगे ,परन्तु स्कूलों में कार्यरत समस्त स्टाफ ,शिक्षकगण ,अन्य कर्मचारी समस्त कार्य दिवसों में शत-प्रतिशत उपस्थित रहेंगे |

कोरोना नियमों का करना होगा पालन -

स्कूलों में नियमित उपस्थिति के साथ -साथ सभी कर्मचारियों को केंद्र शासन द्वारा समय -समय पर जारी कोरोना नियमों का पालन करते हुए उपस्थति सुनिश्चित करना होगा |

परीक्षा की तैयारी -

शासन द्वारा स्कूलों में उपस्थिति अनिवार्य करने के पीछे बोर्ड परीक्षा की तैयारी हो सकती है ,क्योंकि इस बार कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच कक्षा 10 और 12 का माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा निर्धारित में ऑफलाइन परीक्षा लिया जाना है | जिसके सम्बन्ध में समय -समय पर मंडल द्वारा निर्देश जारी किया जा रहा है |

इसके अतिरिक्त स्कूलों में बोर्ड कक्षाओं को छोड़ कर अन्य कक्षाओं का जनरल प्रमोशन का रिकार्ड भी संधारित किया जाना है |

जाति-निवास के लिए दस्तावेज -

शासन द्वारा कक्षा 1 से 12 तक के विद्यार्थियों के लिए जाति-निवास बनाने का आदेश जारी किया गया है | जाति- निवास बनाने के कार्य को शासन द्वारा विशेष रूप से ध्यान दिया जा रहा है | दाखिल खारिज तथा अन्य दस्तावेज के लिए पालक स्कूलों में लगातार आ रहे हैं ,शिक्षकों का स्कूलों में नियमित उपस्थिति से जाति-निवास कार्य समय पर पूर्ण हो पायेगा |

Post a comment

0 Comments