शाला संकुल बनने के बाद पहली बार संकुल प्रभारी (प्राचार्य) लेंगे, शिक्षकों का बैठक

रायपुर - शाला संकुल बनने के बाद पहली बार प्राचार्य संकुल प्रभारी के रूप में शिक्षकों का बैठक लेंगे। शासन द्वारा माह मार्च के बैठक के लिए एजेंडा तय कर दिया गया है , राज्य परियोजना कार्यालय द्वारा जारी एजेंडा पर संकुल प्रभारी ( प्राचार्य ) बैठक लेंगे तथा एजेंडे के क्रियान्वयन को लेकर रणनीति भी तैयार करेंगे |

दरअसल नई शिक्षा नीति के तहत पूर्व से कार्यरत संकुल समन्वयक तथा प्रभारी को बदल कर संकुल का पुनर्गठन किया गया है। नवीन संकुल को शाला संकुल का नाम दिया गया है तथा संकुल प्रभारी का दायित्व प्राचार्यों को सौपा गया है | अधिकांश जिलों में नये संकुल समन्वयकों की नियुक्ति भी की जा चुकी है | अतः राज्य परियोजना कार्यालय द्वारा जारी एजेंडे पर संकुल प्रभारी ( प्राचार्य ) बैठक लेंगे |

राज्य परियोजना कार्यालय द्वारा जारी निर्देश के अनुसार प्रतिमाह एक तारीख को मासिक अकादमिक चर्चा पत्र तैयार कर राज्य कार्यालय द्वारा भेजा जाता है ,जिसमे दस बिन्दुओं पर बैठक का आयोजन कर शालाओं में उन्हें लागू करने हेतु आवश्यक कार्यवाहियां की जाती है | अतः संकुल स्तर पर मासिक अकादमिक चर्चाओं के नियमित आयोजन एवं फोलो-अप गतिविधियों का क्रियान्वयन की मोनिटरिंग प्राचार्यों द्वारा किया जाना है |

मासिक बैठक के आयोजन में निम्न बातों को ध्यान में रखना है -

♦ बैठक का आयोजन इस प्रकार करना है कि शिक्षकों को 8 किलोमीटर की परिधि के भीतर ही उपस्थित होना पड़े ताकि उन्हें यात्रा देय की आवश्यकता न पड़े |

♦  बैठक में शिक्षकों को इस प्रकार बुलाने को कहा गया है कि शाला बंद न करना पड़े |

♦ बैठक में उपस्थित होते समय सम्बन्धित शिक्षक को बच्चों को कुछ आवश्यक प्रोजेक्ट कार्य या अन्य गतिविधियां देने को कहा गया है ,जिससे बच्चों का पढ़ाई नुकसान न हो |

♦ बैठक में आने से पहले शिक्षकों को चर्चा पत्र को पढ़ कर आना होगा तथा बैठक में अलग -अलग एजेंडे को शिक्षकों को पढ़ना है साथ ही बैठक के सभी 10 एजेंडे का क्रियान्वयन हेतु अलग -अलग शिक्षक को मोनिटरिंग की दिया जाना है |

प्रत्येक माह के 1 तारीख को चर्चा पत्र cg school.in में अपलोड किया जाता है ,शिक्षक पोर्टल में जाकर चर्चा पत्र को पढ़ सकते हैं |

♦ शिक्षकों के साथ -साथ शाला संकुल प्रभारी ( प्राचार्यों) को चर्चा पत्र को पढ़कर उसकी जानकारी अद्यतन तथा मोनिटरिंग करना होगा |

♦ राज्य परियोजना कार्यालय के अनुसार चर्चा पत्र पर बैठक में सभी शिक्षकों की उपस्थिति तथा क्रियान्वयन की जिम्मेदारी तथा उत्तरदायित्व प्राचार्यों को होगी |


प्रिंट रिच गाँव -

माह फरवरी के मासिक चर्चा पत्र में प्रिंट रिच गाँव /वार्ड की बात कही गई है | प्रिंट रिच गाँव /वार्ड के लिए शिक्षकों को गली -मुहल्ला में बच्चों के सिखने हेतु वाल पेंटिंग ,पोस्टर आदि लगाया जाना है ,जिससे बच्चे घर से बाहर गाँव /वार्ड में निकले तो उन्हें पढ़ने के लिए सामग्री मिल जाय |

हम प्रिंट रिच गाँव/वार्ड का फोटो ग्राफ्स भी उपलब्ध करा रहे हैं ,जिससे आपको प्रिंट रिच गाँव /वार्ड के लिए आइडिया मिल जायेगा | प्रिंट रिच के सम्बन्ध में अधिक जानकारी के लिए आप cg school.in मौजूद चर्चा पत्र कका अवलोकन कर सकते हैं |

प्राचार्यों को 31 मार्च 2021 तक प्रिंट रिच गाँव /वार्ड की सूचना तथा सर्टिफिकेट जमा करना होगा -

बैठक में चर्चा पत्र में दिए गये प्रिंट रिच वातारण की ईबुकलेट एकत्र कर शत प्रतिशत कार्य सम्पादन की सूचना तथा सर्टिफिकेट प्राचार्यों को जमा करना होगा , इस प्रकार शाला संकुल बनने के बाद शाला में चर्चा पत्र में दिए गये एजेंडे के क्रियान्वयन की जिम्मेदारी तथा उत्तरदायित्व संकुल प्रभारी( प्राचार्य ) को दिया गया है |

Post a comment

0 Comments