अब शिक्षक भी बन सकेंगे आईएएस.......शिक्षकों का पदोन्नति आईएएस संवर्ग तक

shikshaklbnews- यदि शिक्षकों को आईएएस संवर्ग में प्रोन्नति मिले तो आपकी क्या प्रतिक्रिया होगी ? यह परिकल्पना साकार होती दिख रही है। नई शिक्षा नीति के तहत शिक्षकों को प्रोत्साहन, वेतन वृद्धि और मेरिट के आधार पर उच्चतम स्तर तक पदोन्नति देने का प्रस्ताव इस राज्य में शिक्षा विभाग को भेज दिया गया है , इससे शिक्षकों में खासा उत्साह है।

दरअसल उड़ीसा सरकार द्वारा शिक्षकों आईएएस संवर्ग में पदोन्नति देने का प्रस्ताव तैयार कर लिया गया है। उच्च शिक्षा विभाग ने उड़ीसा शिक्षा सेवा कैडर के अधिकारियों और अध्यापकों को भी आईएस के रूप में पदोन्नति देने की सिफारिश की है ,इससे पहले गैर प्रशासनिक सेवा वर्ग की गिनी- चुनी सेवाओं के अफसरों को ही यह मौका मिलता रहा है। इसके पीछे विभाग का तर्क है, कि शिक्षकों को प्रशासनिक सेवा में पदोन्नति होने से प्रशासन का दूरदर्शी और संवेदनशील चेहरा सामने आ सकता है।

इसे भी पढ़ें -प्राथमिक शिक्षक सरकार के सबसे अधिक वेतन पाने वालों में से एक होना चाहिए -हाई कोर्ट 

इन शिक्षकों को मिलेगा लाभ-

यदि सबकुछ सही रहा और उड़ीसा सरकार द्वारा शिक्षकों को आईएएस अफसर के रूप में पदोन्नति देने का यह प्रस्ताव पूरी तरीके से लागू हो पाता है, तब ग्रुप 'ए' में आ चुके शिक्षकों को इसका लाभ मिलेगा ,जिनका वेतनमान डिप्टी कलेक्टर रेंक के बराबर हैं |

यह है विभाग का तर्क-

उच्च शिक्षा विभाग के तरफ से यह तर्क दिया गया है कि गैर प्रशासनिक सेवा सूची में उड़ीसा शिक्षा सेवा कैडर को शामिल नहीं किया जा रहा है, इससे ग्रुप  ए वर्ग के अधिकारी उड़ीसा कैडर के आईएएस के रूप में पदोन्नति होने से वंचित हो रहे हैं। उड़ीसा शिक्षा सेवा आईएएस कैडर में अध्यापक ग्रुप ,बी' अधिकारी के तौर पर नियुक्त होने के 8 साल बाद ग्रुप 'ए' वर्ग में पदोन्नति पाते हैं, उनका वेतनमान 9300-34800 (ग्रेड पे ₹54000) रहता है यह आईएएस कैडर के डिप्टी कलेक्टर स्तर के समान हैं। ऐसे में गैर प्रशासनिक सेवा वर्ग के ग्रुप ए के अध्यापकों को आईएस वर्ग में प्रोन्नत किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें -सहायक शिक्षकों के वेतन विसंगति के तीन सदस्यीय समिति गठित 

सभी विभागों से मांगे गए हैं सुझाव-

उड़ीसा में सामान्य प्रशासन विभाग ने राज्य के सभी भागों को पत्र लिखकर चयन कोटा में खाली पड़े 3 आईएस पद को भरने के लिए राज्य के घर प्रशासनिक सेवा अधिकारी (एनएसपीएस) की सूची 6 मई तक भेजने का अनुरोध किया था। जिस पर कुछ विभाग द्वारा सूची भेजी गई थी ऐसे में सामान्य प्रशासन विभाग ने दोबारा 18 अगस्त को सभी वालों को रिमाइंडर भेजकर 8 सितम्बर तक सूची उपलब्ध कराने को कहा था।

गैर प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों को आदेश के रूप में पदोन्नति देने का है प्रविधान-

उच्च शिक्षा विभाग के अनुसार प्रशासनिक सेवा में प्रोन्नति योग्य अधिकारी उपलब्ध नहीं होने के कारण गए प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों को आईएस के रूप में पदोन्नति देने का प्रावधान है।

इसे भी पढ़ें - हाई एवं हायर सेकेंडरी में शुल्क लेने सम्बन्धी आदेश 

गैर प्रशासनिक कैडर के तीन पद है रिक्त-

उड़ीसा सामान्य प्रशासन द्वारा राज्य के सभी विभागों को भेजे गए पत्र के अनुसार उड़ीसा में कुल 248 पंजीकृत आईएएस कैडर के पद में से 10 पद गैर प्रशासनिक सेवा के लिए है,जिनमें से वर्तमान में 3 पद खाली है । यदि यह प्रस्ताव सही तरीके से लागू हो पाती है, तो इन्हीं 3 पदों के लिए पदोन्नति की प्रक्रिया शुरू हो सकती है।

join our whatsapp groups:-



Post a Comment

1 Comments