वार्ता विफल होने के बाद बोरिया बिस्तर लेकर राजधानी पहुंच रहे सहायक शिक्षक.......इधर पालक बापक संघर्ष समिति का सरकार को अल्टीमेटम

रायपुर - सहायक शिक्षक फेडरेशन के बैनर तले चल रहे सहायक शिक्षकों का अनिश्चितकालीन आंदोलन मुख्य सचिव से वार्ता विफल होने के बाद और उग्र नजर रहा है। सहायक शिक्षकों का कहना है ,कि उनकी वेतन विसंगति की समस्या जब तक दूर नहीं हो जाती , तब तक यह आंदोलन अनवरत जारी रहेगा।

सहायक शिक्षकों का कहना है कि वे सरकार से अलग से कुछ और नहीं मंग रहे हैं ,बल्की सत्ता में आने से पहले जो वादा किए थे उसे ही पूरा करने को कह रहे हैं। सरकार ने जो कमेटी बनाई है उसका भी रिपोर्ट तय समय सीमा में सौपा नहीं जा रहा है, उन्हें गुमराह किया जा रहा है इसीलिए आंदोलन करने के लिए वे विवश हैं।

वार्ता विफल होते ही बोरिया बिस्तर लेकर राजधानी पहुंचे सहायक शिक्षक-

मुख्य सचिव के साथ वार्ता विफल होते ही सहायक शिक्षक पूरी तैयारी के साथ राजधानी रायपुर पहुंच रहे हैं। धरना स्थल पर ही खाने पीने की व्यवस्था की जा रही है ।  ठंड का मौसम होने के कारण शिक्षक गर्म कपड़े लेकर राजधानी के धरना स्थल पर उपस्थित हो रहे हैं , ताकि रात्रि में किसी तरह की परेशानी ना हो।

इधर छत्तीसगढ़ पालक बालक संघर्ष समिति का सरकार को अल्टीमेटम-

सरकार द्वारा किए गए अपने वादे को पूरा नहीं करने और शिक्षकों के हड़ताल में चले जाने से बच्चों की पढ़ाई बाधित होनेपर छत्तीसगढ़ पालक बालक संघर्ष समिति कोयलीबेड़ा द्वारा पत्र जारी कर सरकार को पत्र जारी कर सहायक शिक्षकों की मांगों को तीन दिवस के भीतर पूर्ण करने को कहा गया है , बालक बालक संघर्ष समिति कोयलीबेड़ा ने स्पष्ट कहा है कि यदि तीन दिवस के भीतर सहायक शिक्षकों की मांगों को पूरा नहीं किया जाता तो बालक बालक संघर्ष समिति द्वारा विद्यार्थियों के साथ मिलकर अनिश्चितकालीन आंदोलन करने के लिए विवश होंगे।

👉 पालक बालक संघर्ष समिति कोयलीबेड़ा द्वारा जारी पत्र का पीडीऍफ़ डाउनलोड करें

सरकार सहायक शिक्षकों से वार्ता को तैयार मुख्यमंत्री-

18 दिसंबर गुरु घासीदास जयंती के अवसर पर मुंगेली जिले के लालपुर धाम पहुंचे मुख्यमंत्री ने पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवाल के जवाब में कहा है कि सरकार सहायक शिक्षकों से वार्ता को तैयार है। साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि 2 साल के बाद स्कूल खुला है,इसलिए शिक्षकों को हड़ताल नहीं करना चाहिए बातचीत से ही रास्ता निकलेगा।

सहायक शिक्षिका की 10 माह का सर्विस शेष, प्रतिदिन आंदोलन में होती है उपस्थित-

आज के आंदोलन में एक बहुत ही भावुक पल देखने को मिला। आंदोलन में शामिल एक सहायक शिक्षिका की सर्विस मात्र 10 माह बचा है और वह प्रतिदिन आंदोलन में शामिल होती है। उनका कहना है कि मेरा तो भला ना हो सका परंतु इस आंदोलन से मेरी बच्चों ( सहायक शिक्षक ) का भला हो जाए , इसलिए वह प्रतिदिन आंदोलन में शामिल होती हैं।

join our whatsapp groups -



Post a Comment

0 Comments