शासकीय सेवकों एवं उनके आश्रित सदस्यों के उपचार हेतु अस्पतालों की सूची जारी हुआ

shikshaklbnews -छत्तीसगढ़ शासन चिकित्सा शिक्षा विभाग मंत्रालय द्वारा शासकीय सेवकों एवं उनके परिवार के आश्रित सदस्यों के उपचार हेतु 2022-23 के लिए निजी अस्पतालों की सूची जारी की गई है। छत्तीसगढ़ शासन चिकित्सा शिक्षा विभाग मंत्रालय द्वारा जारी निजी अस्पतालों की सूची में राज्य के अंतर्गत तथा राज्य के बाहर स्थित निजी अस्पतालों का नाम शामिल है, जहां कोई भी शासकीय सेवक स्वयं या अपने आश्रितों का इलाज करा सकते हैं।

दरअसल राज्य शासन द्वारा प्रतिवर्ष कर्मचारियों एवं उनके आश्रितों के इलाज के लिए राज्य अंतर्गत तथा राज्य के बाहर स्थित निजी अस्पतालों को मान्यता दी जाती है जहां कर्मचारी अपना स्वयं का या अपने परिवार  के आश्रितों का इलाज करा सकते हैं। बाद में इलाज में खर्च हुई राशि को मेडिकल रिबर्समेन्ट के रूप में शासन द्वारा वापस की जाती है।

दिनांक 26 जुलाई 2022 को छत्तीसगढ़ शासन चिकित्सा शिक्षा विभाग 'मंत्रालय 'महानदी भवन' नवा रायपुर' अटल नगर द्वारा शासन के समस्त विभाग अध्यक्ष,राजस्व मंडल,बिलासपुर, समस्त विभाग अध्यक्ष, समस्त संभागायुक्त, समस्त कलेक्टर छत्तीसगढ़ को उन निजी चिकित्सालयों की सूची जारी कर दी गई थी , जहां सत्र 2022-23 में प्रदेश के शासकीय सेवक अपना स्वयं का या परिवार के आश्रित सदस्यों का उपचार करा सकते थे।

अब पुनः दिनांक 28 /10 2022 को एक न्यू आदेश जारी किया गया है ,जिसमें शासकीय कर्मचारी स्वं या अपने आश्रितों का इलाज करा सकते हैं | दोनों ही सूची 2022-23 के लिए ही जारी हुआ है ,दोनों में क्या अंतर है आप दोनों ही सूची को डाउनलोड कर अध्ययन कर सकते हैं |

राज्यान्तर्गत तथा राज्य के बाहर स्थित मान्यता प्राप्त निजी अस्पताल-

छत्तीसगढ़ शासन चिकित्सा शिक्षा विभाग मंत्रालय द्वारा जारी अस्पतालों की सूची में राज्यान्तर्गत कुल 79 अस्पतालों का नाम शामिल है ,वहीं पिछले आदेश में राज्यान्तर्गत 73 अस्पतालों का नाम शामिल था , वहीं राज्य के बाहर दो निजी अस्पतालों को मान्यता दी गई है। सूची में शामिल सभी निजी चिकित्सायों को दिनांक 01.04.2022 से 31.03.2023 तक के अवधि हेतु मान्यता दी गई है।

राज्य अंतर्गत तथा राज्य के बाहर स्थित निजी अस्पतालों की संख्या में कटौती-

पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष शासकीय सेवकों एवं उनके परिवार के आश्रितों के इलाज के लिए शासन द्वारा राज्य अंतर्गत तथा राज्य के बाहर स्थित निजी अस्पतालों की मान्यता में कटौती की गई है। पिछले साल प्रदेश के अंतर्गत 87 हॉस्पिटलों को मान्यता दी गई थी, वहीं राज्य के बाहर स्थित 40 निजी अस्पतालों को मान्यता दी गई थी, पिछले साल की तुलना इस साल राज्य अंतर्गत केवल 79 अस्पतालों को मान्यता दे दी गई है तो वहीं राज्य के बाहर केवल दो हॉस्पिटलों को शामिल किया गया है।

👉मान्यता प्राप्त अस्पतालों की सूची यहाँ से डाउनलोड करें 

👉 मान्यता प्राप्त अस्पतालों की न्यू सूची यहाँ से डाउनलोड करें 

कर्मचारियों के नजरिये से बड़ा नुकसान-

शासकीय सेवकों तथा उनके आश्रितों के इलाज के लिए राज्य अंतर्गत तथा राज्य के बाहर स्थित निजी अस्पतालों की संख्या में काफी कटौती की गई है। यह सीधे तौर पर कर्मचारियों के स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ खिलवाड़ है, क्योंकि बड़ी बीमारियों के इलाज के लिए दिल्ली जैसे शहर के निजी हॉस्पिटल की सुविधा दी गई थी, उसे अब खत्म कर दी गई है।

join our whatsapp groups -


Post a Comment

0 Comments